शिक्षा एवं डीएमआईटी प्रदेश विंग के 7 दिवसीय कार्यशाला का उद्धघाटन

Apr 30 2021 1:19PM 0 Comments, 38 Visits

हेल्प इंडिया ऑनलाइन संस्थान के द्वारा आज विभिन्न प्रान्त के शिक्षा एवं डीएमआईटी विंग के चैयरमेन व प्रभारियों की वर्चुअल मीटिंग की कार्यशाला का उद्धघाटन जादूगर आँचल ने किया।

जादूगर आँचल ने कहा कि सीखने के लिए एक जूनून पैदा कीजिये. यदि आप कर लेंगे तो आपका विकास कभी नहीं रुकेगा।
शिक्षा से ज्यादा मूल्यवान इस संसार में कुछ भी नही है, इसलिए हमारा मुख्य उद्देश्य शिक्षा को अर्जित कर, उसे विस्तृत करना होना चाहिए, नवीनतम तकनीक को अपनाया जाना चाहिए।
प्रथम दिवस राष्ट्रीय महामंत्री एमएफए डॉ पवनकुमार पारीक ने संगठन एवं संगठन के कार्यो को विस्तार से बताते हुवे सभी को राष्ट्रीय अभियान में जुड़कर कार्य करने का आह्वान किया।
डीएमआईटी विंग के राष्ट्रीय सदस्य विष्णु पारीक ने रोजगार में शिक्षा कैसे सहायक विषय पर चर्चा करते हुवे कहा कि शिक्षा का उद्देश्य एक सामान्य जीवन को विकसित करना है।
डॉ सुदर्शन राव ने रिटजी सी सीयूट एवं रिटजी स्कूल के बारे में विस्तार से बताते हुवे कहा कि आधुनिक शिक्षा ने मैनेजमेंट, एकेडमिक, फेकल्टी व फीस जैसे विषयों पर स्कूल खर्च आधा करके विश्व की शिक्षा से जोड़ दिया है।
शुर्तिधारा आर्य ने नवीन शिक्षानीति व रोबोटिक्स विषय पर प्रकाश डालते हुवे कहा कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस कंप्यूटर द्वारा नियंत्रित रोबोट या फिर मनुष्य की तरह इंटेलिजेंस तरीके से सोचने वाला सॉफ़्टवेयर बनाने का एक तरीका है।
मीटिंग में डॉ अपर्णा, छतीसगढ़ शिक्षा विंग चैयरमेन आलोक अग्रवाल, डीएमआईटी चैयरमेन डॉ प्रियंका माने ने भी सम्बोधित किया।
डॉ जगदीश पारीक ने कहा कि आगामी 6 दिवस काफी महत्वपूर्ण है शिक्षित व्यक्ति ही किसी को सीखा सकता है। पारीक ने बताया कि डॉ प्रियंका माने, डॉ अपर्णा व शुर्तिधारा आर्य के 2-2 दिन के सेशन हर दिन वर्चुअल चलेंगे। हम मिशन ज्ञान के साथ पूरे राष्ट्र में फ्री डिजिटल शिक्षा को शीघ्र लेकर आ रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Stay Informed

Sign up for our email newsletters and get periodical updates and alerts.